ख़बर

झोला छाप डॉक्टरों पर प्रशासन की कड़ी कार्रवाई: बिना योग्यता के 8 क्लिनिक किए सील, कई अपंजीकृत दवाखाना, मेडिकल स्टोर और लैब्स को भी जारी किया नोटिस

जगदलपुर. बस्तर में जिला प्रशासन की संयुक्त टीम की तरफ से झोलाछाप डॉक्टरों और बिना पंजीयन क्लीनिक चलाने वालों के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की गई है. औचक निरीक्षण कर अवैध रूप से संचालित 8 क्लीनिकों को जिला प्रशासन की टीम ने सील कर दिया है. बिना पंजीयन क्लीनिक का संचालन करने वाले 10 क्लीनिक संचालकों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है.

बता दें, जिला प्रशासन की तरफ से यह कार्रवाई बस्तर जिले में झोलाछाप डॉक्टरों अवैधानिक तरीके से क्लीनिक का संचालन और गांव-गांव घूमकर मरीजों का इलाज करने के संबंध में मिल रही शिकायतों को देखते हुए की जा रही है. जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम जिला मुख्यालय से लेकर विकासखण्ड मुख्यालयों व गांवों में संचालित दवाखानों, डॉक्टरों और मेडिकल स्टोर्स में लगातार दबिश देकर उनकी वैधानिकता की जांच-पड़ताल कर रही है. दरअसल झोला छाप डॉक्टर ग्रामीणों का इलाज कर स्वास्थ्य और खराब कर देते हैं. कई ग्रामीण भी इन झोलाछाप डॉक्टरों के दवाओं से प्रभावित हो चुके हैं.

नर्सिंग होम एक्ट जगदलपुर के नोडल अधिकारी डॉ. टी.एस. नाग, विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी नानगुर जयंतीलाल दरियो, नायब तहसीलदार अंकुर रात्रे, पुलिस थाना नगरनार की संयुक्त टीम ने ओम साहू की लिखित शिकायत के आधार पर नगरनार में जांच कार्रवाई की और सेमरा, कलचा, मगडु, कचोरा गांव में दौरा कर झोलाछाप डॉक्टरों के बारे में लोगों से पूछताछ की.

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बस्तर से प्राप्त जानकारी के अनुसार, नर्सिंग होम एक्ट के तहत अवैध दवाखानों व अपंजीकृत चिकित्सकों के विरूद्ध लगातार कार्रवाई की जा रही है. जिला मुख्यालय जगदलपुर स्थित आशा क्लीनिक, जगन्नाथ क्लीनिक, दुर्गा क्लीनिक, एपेक्स डेंटल क्लीनिक, डॉ. के.के. राय, नेहा डेंटल क्लीनिक और मेडिकेयर पैथालॉजी लैब के संचालकों और लोहाण्डीगुडा ब्लॉक अंतर्गत साहू मेडिकल स्टोर के संचालक घनाराम साहू, डॉ. हरीश मरकाम, तोकापाल ब्लॉक अंतर्गत ए.के. विश्वास सड़क पारा को नर्सिंग होम एक्ट के तहत पंजीयन न होने के कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.

जगदलपुर में संचालित सागर दवाखाना को जिला प्रशासन ने बिना योग्यता के क्लीनिक का संचालन करने के मामले में सील बंद कर दिया गया है. इसी तरह बिना चिकित्सकीय योग्यता के बकावण्ड में क्लीनिक का संचालन करने वाले चन्द्रशेखर मौर्य, नानगुर में संदीपदास, लोहाण्डीगुडा में डॉक्टर पिताम्बर साहू, बकावण्ड के ग्राम सतोषा करपावंड में संचालित मंडल प्रायमरी हेल्थ केयर सेंटर, तोकापाल में दीनानाथ तिवारी, दरभा ब्लॉक के चिंगपाल में गिरीश कुमार कश्यप, बस्तर में लिजा मेडिकल स्टोर्स को सील कर दिया गया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button