ख़बर

मीडिया ने किया खुलासा, अब 69 लाख 57 हजार रु.की सिलाई मशीन घोटाले की जांच होगी, आदेश जारी

कोरबा। जनपद पंचायत कोरबा के ग्राम पंचायतों में स्वरोजगार को बढ़ावा देने जरूरतमंद महिलाओं को सिलाई मशीन का वितरण करना था। जनपद पंचायत के गांव में एक ग्राम पंचायतों में 69 लाख 57 हजार रूपये स्वीकृत किया गया था। कागजों में सिलाई मशीन बांट दी गई थी, जबकि पात्र महिलाओं को सिलाई मशीन मिला ही नहीं था। गोलमाल का यह मामला मीडिया में लगातार आने लगा, अब इस मामले में संज्ञान लेते हुए मुख्य कार्यपालन अधिकारी सह सचिव प्रबंध कारिणी समिति जिला खनिज संस्थान न्यास कोरबा ने मामले में जांच के आदेश दिए हैं। सात दिवस के भीतर जांच प्रतिवेदन उपलब्ध कराना होगा। जांच टीम का भी गठन किया गया, जिसमें तीन सदस्य शामिल किए गए हैं।
शासन ने परित्यगयता, दिव्यांग और विधवा महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने की योजना बनाई है। जिसके तहत उन्हें सिलाई मशीन का वितरण किया जाना है। हर ग्राम पंचायत के 10-10 नग सिलाई मशीन पात्र महिलाओं को बांटा जाना था।जनपद पंचायत कोरबा में जरूरतमंद महिलाओं की इस योजना को भी अधिकारी ने नहीं बख्शा । बिना सिलाई मशीन बांटे ही , या यूं कहें कि कागजों में मशीन बांटकर 69 लाख 57 हजार का भ्रष्टाचार कर दिया। एक मशीन की कीमत 7 हजार 900 रूपए बताई जा रही है। 880 से अधिक सिलाई मशी की खरीदी करना बताया गया है।सूचना के अधिकार में इस गोल माल का खुलासा हुआ। भ्रष्टाचार में जनपद पंचायत कोरबा के पूर्व सीईओ की भूमिका संदेह के दायरे में है। जनपद पंचायत कोरबा क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायतो में सिलाई मशीन वितरण में भारी भरकम भ्रष्टाचार हुआ है।हितग्राहियों को सिलाई मशीन मिला ही नहीं है और राशि को अफसर डकार गए है। बताया जाता है कि सभी ग्राम पंचायतों में 10-10 सिलाई मशीनों का वितरण विधवा, विकलांग, परित्यगता महिलाओं को बांटा जाना था। इसके लिए डीएमएफ सामग्री पूर्ति के अंतर्गत 69 लाख 57 हजार रूपए की भारी भरकम राशि जनपद पंचायत कोरबा को जारी की गई है। इसका क्रियान्वयन एजेंसी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत कोरबा को बनाया गया था। जिस पर संज्ञान लेते हुए मुख्य कार्यपालन अधिकारी कोरबा ने आदेश दिया है कि उक्त कार्य के संबंध में मीडिया द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच तथा भौतिक सत्यापन पश्चात अभिमत सहित प्रतिवेदन सात दिवस के भीतर उपलब्ध कराए जाएं। इसके लिए जांच समिति का गठन किया गया है। उक्त आदेश 11 जून को दिया गया है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत कोरबा क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायतों में लगभग सभी ग्राम पंचायत में 10-10 नग सिलाई मशीन के वितरण में भारी भरकम गोलमाल हुआ है। जिसमें हितग्राहियों को सिलाई मशीन मिला ही नहीं है ऐसे ही ग्राम पंचायतों में कटकोना, कोलगा, फुलसरी, बरपाली, सिमकेंदा, सोलवा, जिलगा, श्यांग, अमलडीहा, गुरमा, चिर्रा, चचिया, मदनपुर, पसरखेत, बेला, धनगांव, जामबाहर, देववपहरी, गढ़ उपरोड़ा, सतरेंगा, अजगरबहार, चुईया, कछार, तिलाईडाड़, बड़गांव, कटबितला, कुकरीचोली, कोरकोमा, केरवा, पतरापाली, गेंराव, पताढ़ी, बड़गांव, कुदुरमाल, बुंदेली, करूमौहा, खोड्डल, बरीडीह, बगबुड़ा, मुढुनारा, भैसमा, ढोंगदरहा, रजगामार, नकटीखार, नकिया, केराकछार, गोडमा, उरगा सहित अन्य शामिल है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button