ख़बर

पटना में गंगा नदी में पलटी, एक ही परिवार के 17 लोग डूबे, 13 को किया रेस्क्यू, 4 लोग लापता

पटना I बिहार के पटना में नाव पलटने की घटना सामने आयी है. बाढ़ में गंगा स्नान के बाद नाव से पार करने के दौरान हादसा हो गया. जिसमें 17 लोगों के डूबने की खबर है. मौके पर स्थानीय गोताखोरों की मदद से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. 13 लोगों को बचा लिया गया है जबकि 4 लापता हैं. पटना से एनडीएआरएफ और एसडीआरएफ की टीम को घटना की सूचना दे दी गई है. मौके पर स्थानीय प्रशासन की टीम भी पहुंच चुकी है.

आपको बताते चलें कि आज गंगा दशहरा के मौक़े पर भारी संख्या में श्रद्धालु दूर दराज इलाके से स्नान करने आए हुए थे. यह हादसा बाढ़ के उमानाथ घाट का है. सूत्रों की मानें तो लोग नहाने के बाद नाव पर सवार होकर नदी पार कर रहे थे तभी नाव बीच में पहुंचते ही असंतुलित होकर पलट गई. जिससे सभी लोग डूब गए. घाट पर मौजूद श्रद्धालुओं में चीख पुकार मच गयी. फिल्हाल रेस्क्यू का काम चल रहा है, कितने लोग नाव पर सवार थे यह स्पष्ट नहीं हो पाया है. प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो 20 से 25 लोग नाव में सवार थे जिसमें 10 से 11 लोग तैरकर बाहर निकले हैं अन्य लोगों की तलाश की जा रही है. मौके पर एसडीआरएफ की टीम पहुंची है और रेस्क्यू शुरू कर दिया है. हालांकि लोगों की संख्या स्पष्ट नहीं हो पाया है कि कितने लोग सवार थे.

 

 

“एक नाव पर लगभग 20-25 लोग सवार थे. जैसे ही नाव गंगा नदी में आगे बढ़ा नाव डूब गई. 10 से 11 लोग बाहर आ गए हैं. अन्य लोगों की तलाश जारी है. पुलिस प्रशासन की टीम पहुंची है साथ-साथ एसडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया है.” -चंदन कुमार स्थानीय

 

लोगों का कहना है कि आज के दिन प्रशासन को नाव परिचालन पर रोक लगनी चाहिए थी. नाव में क्षमता से अधिक यात्री को बैठा कर गंगा दियारा पार ले जाया जा रहा था. 17 लोगों में 13 लोगों को बचाया गया है. 4 लोग अभी भी लापता हैं. अवधेश प्रसाद मां के श्राद्ध क्रम समाप्त होने के बाद बाढ़ स्नान करने गए थे. बाढ़ एसडीओ मौके पर पहुंचकर घटना की छानबीन कर रहे हैं.

“सभी नालंदा जिले के मालती गांव के रहने वाले एक ही परिवार के लोग हैं. 13 लोगों को स्थानीय नाविक ने बचा लिया लेकिन 4 लोग अभी भी लापता हैं. रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है.”

  • शुभम कुमार, एसडीओ, बाढ़

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button