ख़बर

केंद्रीय मंत्री वी सोमन्ना के बेटे पर केस:बेंगलुरु के कपल ने फ्रॉड, ब्लैकमेल और डराने-धमकाने का आरोप लगाया

केंद्रीय मंत्री वी सोमन्ना के बेटे अरुण पर बेंगलुरु के एक दंपती ने फाइनेंशियल फ्रॉड करने और डराने-धमकाने का आरोप लगाया है। इवेंट मैनेजमेंट कंपनी चलाने वाले इस कपल ने शुक्रवार को बेंगलुरु पुलिस में अरुण और दो अन्य लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है।

इसमें फ्रॉड के अलावा ब्लैकमेलिंग, हाथापाई और जान से मारने की धमकी देने का भी आरोप लगाया है। अरुण के अलावा अन्य दो लोगों की पहचान दसाराहल्ली के रहने वाले जीवन कुमार और हेब्बल के रहने वाले प्रमोद राव के तौर पर की गई है।

वी सोमन्ना ने प्रधानमंत्री मोदी की तीसरी कैबिनेट में जल शक्ति और रेलवे मंत्रालय में राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली है। इससे पहले 2021 से 2023 तक वे कर्नाटक की बासवराज सरकार में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट मिनिस्टर और आवास मंत्री रहे थे।

वी सोमन्ना ने प्रधानमंत्री मोदी की तीसरी कैबिनेट में जल शक्ति और रेलवे मंत्रालय में राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली है।
वी सोमन्ना ने प्रधानमंत्री मोदी की तीसरी कैबिनेट में जल शक्ति और रेलवे मंत्रालय में राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली है।

अरुण ने अपने पिता के प्रभाव का हवाला देकर बिजनेस बढ़ाने की बात कही थी
शिकायत के मुताबिक तृप्ति और उनके पति माधवराज बीते 23 साल से इवेंट मैनेजमेंट कंपनी चला रहे हैं। अरुण से उनकी मुलाकात 2013 में एक सरकारी इवेंट में हुई थी।

इस कपल ने इससे पहले अरुण की बहन के लिए एक बर्थडे पार्टी का आयोजन किया था, जिसकी काफी तारीफ हुई थी। कपल के काम से खुश होकर अरुण ने माधवराज से पार्टनरशिप करने को कहा था। अरुण ने तब कहा था कि कर्नाटक सरकार में उनके पिता की प्रभावशाली पोजिशन के जरिए वे अपना बिजनेस बढ़ा सकते हैं।

इवेंट मैनेजमेंट कंपनी चलाने वाले कपल ने शुक्रवार को बेंगलुरु पुलिस में अरुण सोमन्ना और दो अन्य लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है।
इवेंट मैनेजमेंट कंपनी चलाने वाले कपल ने शुक्रवार को बेंगलुरु पुलिस में अरुण सोमन्ना और दो अन्य लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है।

कोरोना के बाद अरुण ने कंपनी को अपने कंट्रोल में ले लिया
लेकिन 2019 में कोरोना महामारी के चलते कंपनी को नुकसान हो गया। कपल ने कहा कि अरुण ने कंपनी का कंट्रोल अपने हाथ में ले लिया और मुनाफे उनके साथ शेयर करना बंद कर दिया।

बाद में अरुण ने कपल से डिमांड कि वे शेयरहोल्डर्स के पद से इस्तीफा दे दें और 1.2 करोड़ रुपए मुआवजे के तौर पर दें। जब कपल ने मना किया तो अरुण ने ऑफिस के कर्मचारियों के सामने उन्हें अपशब्द कहे और माधवराज को बेल्ट और लैंप से मारा। पुलिस ने इस मामले में शिकायत दर्ज कर ली है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button