छत्तीसगढ़

अतिक्रमण रोकने गए रेंजर और कर्मचारियों पर ग्रामीणों ने किया लाठी-डंडों से हमला

गरियाबंद। अवैध अतिक्रमण रोकने गए रेंजर समेत तीन वन कर्मियों को अतिक्रमणकारियों ने लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा और उनके कपड़े उतार दिए. इस दौरान तीनों घायल जान बचाने के लिए अर्धनग्न हालत में मौके से भागे और रक्शापत्थरा लघु वनोपज सहकारी समिति के प्रबंधक के घर पहुंचकर अपनी जान बचाई. पुलिस में शिकायत दर्ज करने के बाद तीनों का गरियाबंद में इलाज जारी है. घटना की सूचना लगते ही उदंती सीता नदी अभ्यारण्य के उप संचालक वरुण जैन और पुलिस अफसर अस्पताल पहुंच गए थे.

जानकारी के मुताबिक, उदंती सीता नदी अभ्यारण्य के बफर जोन में तौरेंगा वन परिक्षेत्र में शनिवार को वन परिक्षेत्र अधिकारी राकेश परिहार अपने शासकीय वाहन से कर्मी पिताम्बर डोंगरे के साथ सूचना के आधार पर अवैध अतिक्रमण को रोकने एम कक्ष क्रमांक 1138 पहुंचे. जहां गोना नवापारा निवासी अशोक पिता देवीसिंह नेताम ट्रैक्टर से वन भूमि में अवैध रूप से जोताई कर रहा था, जिसे रेंजर ने रोका. वन अमले को देखकर ट्रैक्टर चालक गांव की ओर भाग गया. कुछ देर बाद घटनास्थल का मुआयना कर रहे वन अमले को गांव की ओर से आए 25 से 30 महिला-पुरुषों ने घेर लिया और रेंजर परिहार समेत तीनों कर्मियों के कपड़े उतरवाए, मोबाइल और पैसा भी छीना, फिर उन पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button