छत्तीसगढ़

पुरी की रथयात्रा का दूसरा दिन:रुक-रुक कर आगे बढ़ रहे हैं तीनों रथ, बलभद्र का रथ थोड़ी देर में पहुंचेगा गुंडिचा मंदिर

53 साल बाद इस बार पुरी की रथयात्रा दो दिनों की है। सोमवार 8 जुलाई को यात्रा के दूसरे दिन मंगला आरती और भोग के बाद यात्रा दोबारा शुरू हो गई है। तीनों रथ रुक-रुक कर आगे बढ़ रहे हैं। आज यात्रा गुंडिचा मंदिर पहुंच जाएगी।

कल (रविवार) यात्रा का पहला दिन था। शाम 5 बजे के बाद शुरू हुई रथयात्रा सूर्यास्त के ही साथ रोक दी गई थी, भगवान जगन्नाथ का रथ सिर्फ 5 मीटर ही आगे बढ़ा था।

इस साल रथ यात्रा दो दिन क्यों?

जगन्नाथ मंदिर के पंचांगकर्ता डॉ. ज्योति प्रसाद के मुताबिक, हर साल जगन्नाथ रथयात्रा एक दिन की होती है, लेकिन इस बार दो दिन की है। इससे पहले 1971 में यह यात्रा दो दिन की थी। तिथियां घटने की वजह से ऐसा हुआ।

दरअसल, हर साल ज्येष्ठ महीने की पूर्णिमा पर भगवान जगन्नाथ को स्नान करवाया जाता है। इसके बाद वे बीमार हो जाते हैं और आषाढ़ कृष्ण पक्ष के 15 दिनों तक बीमार रहते हैं, इस दौरान वे दर्शन नहीं देते।

16वें दिन भगवान का श्रृंगार किया जाता है और नवयौवन के दर्शन होते हैं। इसके बाद आषाढ़ शुक्ल द्वितीया से रथयात्रा शुरू होती है।

इस साल तिथियां घटने से आषाढ़ कृष्ण पक्ष में 15 नहीं, 13 ही दिन थे। इस वजह से भगवान के ठीक होने का 16वां दिन द्वितीया पर था। इसी तिथि पर रथयात्रा भी निकाली जाती है।

7 जुलाई को भगवान के ठीक होने के बाद की पूजन विधियां दिनभर चलीं। इसी दिन रथयात्रा निकलना जरूरी था। इस वजह से 7 जुलाई की शाम को ही रथयात्रा शुरू की गई। यात्रा सूर्यास्त तक ही निकाली जाती है। इसलिए रविवार को रथ सिर्फ 5 मीटर ही खींचा गया।

1200 साल पुरानी रथयात्रा: 865 पेड़ों की लकड़ियां, 150 से ज्यादा कारीगर और दो महीनों में तैयार होते हैं रथ

पुरी रथयात्रा की परंपरा कब से शुरू हुई, इसकी पुख्ता जानकारी कहीं नहीं है। पुराणों के मुताबिक यह सतयुग से चली आ रही है। स्कंद पुराण के मुताबिक द्वापर युग से पहले सिर्फ भगवान विष्णु की रथ यात्रा होती थी। उन्हें नीलमाधव नाम से पूजा जाता था। द्वापर युग के बाद श्रीकृष्ण, बलभद्र और सुभद्रा के रथ शामिल हुए।.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button